शनिवार, 20 जून 2009

मराठी पढाई....


9 टिप्‍पणियां:

शोभना चौरे ने कहा…

bilkul shi .aapke blog par phli bar hi aana hua hau cartun ke share apni bat khna bda kthin hai kitu aapne ise bhubi nibhaya hai .

Suman ने कहा…

sriman ji ,
bahut hi accha laga .hum logo ki ek avyavsayik patrika ''loksangharsh'' prakashit hoti hai yadi sambhav ho to kuch kartooon hamari patrika k liye bhi banane ka kast karein .

Babli ने कहा…

बहुत बढ़िया और मज़ेदार लगा! सही है महाराष्ट्र में ऐसी ही शिक्षा दी जाती है!

Murari Pareek ने कहा…

कार्टूनी भाषा मैं कुछ बताओ तो जल्दी असर करता है और समझ मैं आता है !!! "म' से मराठा "श" से शिवाजी और और "ब"
से बाल ठाकरे !!

ARUNA ने कहा…

bahut mazedaar hai ye tho!!!

verma8829 ने कहा…

म से मराठी तो बुलवा दिया. म से मानुष भी बुलवाईए मेरे भाई

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

म से मार
हर बार की तरह
मार में भी धार

blog ने कहा…

aur 'ha' se hindi ko auronke muhe me zabardasti bulwana
(shove hindi into others mouth forcefully)

aur 'ra' se rashtrabhasha, aur baki bhasha gayi bhad mein
(R for Rashtrabhasha, other languages can be thrown into trash!)In reality, India has no national language!

Typical north indian attitude.

Sakharam ने कहा…

म से मराठी, क से कन्नड़, त से तमिल, उ से उडिया, ब से बेंगोली, प से पंजाबी, ग से गारो, ख
से ख़ासी यदि नही बोला गया तो जल्दी ही समस्त भारत यूपी बिहार जैसा दकियानूसी और दांभिक हो जाएगा.
लगता है आप भी उन लोगो मे से है जो 'हिन्दी राष्ट्रभाषा है' जैसी अफवाहॉ पर विश्वास करते है...